सुप्रीम कोर्ट ने उन्नाव केस को दिल्ली भेज यूपी में फैले ‘जंगल राज’ पर मुहर लगाई: प्रियंका

0

Hits: 118

खास बातें

  • उन्नाव केस का स्थानांतरण को लेकर प्रियंका गांधी का ट्वीट
  • प्रियंका गांधी ने कहा यूपी में फैला है जंगल राज
  • पीड़िता की दुर्घटना योगी सरकार की विफलता

उच्चतम न्यायालय द्वारा उन्नाव दुष्कर्म कांड से जुड़े सभी पांच मुकदमों की सुनवाई दिल्ली स्थानांतरित किए जाने को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने शुक्रवार को दावा किया कि शीर्ष अदालत का निर्णय उत्तर प्रदेश में फैले ‘जंगल राज’ और योगी सरकार की विफलता पर मुहर है।प्रियंका ने ट्वीट कर कहा कि उच्चतम न्यायालय का फैसला उत्तर प्रदेश में फैले जंगलराज और सरकार की नाकामी पर एक मुहर है। 

उन्होंने दावा किया कि अब जाकर भाजपा ने माना कि उन्होंने एक अपराधी को संरक्षण दे रखा था और उन्होंने उसे पार्टी से निष्कासित कर अपनी गलती को सुधारने के लिए कम से कम एक कदम उठाया।

उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) द्वारा उन्नाव बलात्कार कांड (Unnao Rape Case) से जुड़े सभी पांच मुकदमों की सुनवाई दिल्ली स्थानांतरित किए जाने को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने शुक्रवार को दावा किया कि शीर्ष अदालत का निर्णय उत्तर प्रदेश में फैले ”जंगल राज और योगी सरकार की विफलता पर मुहर है”।

प्रियंका ने ट्वीट कर कहा, ”उच्चतम न्यायालय का फैसला उत्तर प्रदेश में फैले जंगलराज और सरकार की नाकामी पर एक मुहर है।”

उन्होंने दावा किया, “अब जाकर भाजपा ने माना कि उन्होंने एक अपराधी को संरक्षण दे रखा था और उन्होंने उसे पार्टी से निष्कासित कर अपनी गलती को सुधारने के लिए कम से कम एक कदम उठाया।”

गौरतलब है कि उच्चतम न्यायालय ने गुरुवार को उन्नाव बलात्कार कांड से संबंधित सभी पांच मुकदमे उत्तर प्रदेश की अदालत से बाहर दिल्ली की अदालत में स्थानांतरित करने और बलात्कार से संबंधित मुख्य मुकदमे की सुनवाई 45 दिन के भीतर पूरी करने का आदेश दिया था।

शीर्ष अदालत ने रायबरेली के निकट हुई सड़क दुर्घटना में गंभीर रूप से जख्मी बलात्कार पीड़िता को अंतरिम मुआवजे के रूप में 25 लाख रुपये देने का भी आदेश उत्तर प्रदेश सरकार को दिया।

दरअसल, पिछले रविवार को हुए सड़क हादसे में उन्नाव बलात्कार मामले की पीड़िता गंभीर रूप से घायल हो गई। हादसे में पीड़िता की मौसी, चाची और ड्राइवर की मौत हो गई। पीड़ित महिला और उसके वकील को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

गौरतलब है कि उच्चतम न्यायालय ने बृहस्पतिवार को उन्नाव दुष्कर्म कांड से संबंधित सभी पांच मुकदमे उत्तर प्रदेश की अदालत से बाहर दिल्ली की अदालत में स्थानांतरित करने और दुष्कर्म से संबंधित मुख्य मुकदमे की सुनवाई 45 दिन के भीतर पूरी करने का आदेश दिया था।

शीर्ष अदालत ने रायबरेली के निकट हुई सड़क दुर्घटना में गंभीर रूप से जख्मी दुष्कर्म पीड़िता को अंतरिम मुआवजे के रूप में 25 लाख रुपये देने का भी आदेश उत्तर प्रदेश सरकार को दिया।

दरअसल, पिछले रविवार को हुए सड़क हादसे में उन्नाव दुष्कर्म मामले की पीड़िता गंभीर रूप से घायल हो गई। हादसे में पीड़िता की मौसी, चाची और ड्राइवर की मौत हो गई। पीड़ित महिला और उसके वकील को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 

सीबीआई ने उन्नाव दुष्कर्म कांड के दुर्घटना मामले में हत्या के आरोप में भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और 10 अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

लड़की ने 2017 में विधायक द्वारा अपने आवास पर नाबालिग के साथ बलात्कार करने का आरोप लगाया था। पिछले साल अप्रैल में लखनऊ में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास के बाहर महिला द्वारा आत्मदाह की कोशिश के बाद सेंगर के खिलाफ दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज किया गया था।विज्ञापन