खुद को संत कहने वाले साक्षी महाराज पर हैं डकैती, हत्या, जालसाजी सहित 34 मुकदमे

341

Hits: 76

नई दिल्ली। खुद को सन्यासी कहने वाले बीजेपी सांसद साक्षी महाराज का दामन भी पाक साफ़ नहीं हैं। उन्नाव सीट से चुनाव लड़ रहे साक्षी महाराज ने नामांकन के दौरान दाखिल किये गए हलफनामे में बताया है कि उनके ऊपर 34 आपराधिक मामले चल रहे हैं।

इन आपरधिक मामले में साक्षी महाराज के ऊपर दुश्मनी को बढ़ावा देने, आपराधिक धमकी, डकैती, डकैती, हत्या, जालसाजी, धोखाधड़ी और अमानत में खयानत के चार मामले हैं। हालांकि उन्हें दोषी नहीं ठहराया गया है। आठ मामलों में उन पर संज्ञान लिया गया है। इनमे अधिकाँश मामले उत्तर प्रदेश के फैजाबाद, एटा और दिल्ली में दर्ज हैं।

साल 2000 में, एटा में एक कॉलेज के प्राचार्य ने उनके खिलाफ एक पुलिस शिकायत दर्ज की थी जिसमें भाजपा सांसद और उनके दो भतीजों पर सामूहिक बलात्कार का आरोप लगाया था। तब साक्षी महाराज बलात्कार के आरोप में एक महीना तिहाड़ जेल में रहे लेकिन बाद में उन्हें छोड़ दिया गया।

दस साल पहले फर्रुखाबाद में उनके खिलाफ मैनपुरी की रहने वाली आश्रम की एक शिष्या ने एक और बलात्कार की शिकायत दर्ज कराई थी। जब मामला अदालत में पहुंचा तो पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज की कि कोई बलात्कार नहीं हुआ था।

इतना ही नहीं उन्नाव से बीजेपी टिकिट कटने की आशंका जताते हुए साक्षी महाराज ने कहा था कि यदि उनका टिकिट कटा तो बीजेपी को भारी पराजय झेलनी होगी। साक्षी महाराज समाजवादी पार्टी के राज्य सभा सांसद भी रहे हैं।

राजनीति में साक्षी महाराज को विवादित बयानों के लिए जाना जाता है। उन्नाव से लोकसभा चुनाव लड़ रहे साक्षी महाराज ने अभी हाल ही में एक चुनावी सभा में खुद को बड़ा संत बताते हुए कहा कि यदि उन्हें वोट नहीं दिया तो वे मतदाताओं का पुण्य लेकर अपने पाप उनके यहाँ छोड़ जायेंगे।

खुद को सन्यासी कहने वाले साक्षी महाराज का दामन कितना पाक है इस बात का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि उनके ऊपर रेप और अपहरण के अलावा डैकती और हत्या जैसे गंभीर आपराधिक आरोप लग चुके हैं।