सर्वे: बीजेपी को बहुमत नहीं , यूपी मैं 46 सीटों पर सिमट सकती है पार्टी

227

Hits: 81

India TV-CNX Opinion Poll: यूपी में 50 भी नहीं रह जाएगी BJP सांसदों की संख्‍या, NDA 300 से नीचे, UPA 125 से ऊपर

Lok Sabha Election 2019: India TV-CNX Opinion Poll में बीजेपी को अपने दम पर बहुमत नहीं मिलने की बात कही गई है। पार्टी को 240 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है। यह सरकार बनाने के लिए जरूरी बहुमत से 32 कम है। हालांकि, पार्टी साथियों के साथ मिल कर सरकार बनाने के लिए जरूरी आंकड़ा पा लेगी। ओपीनियन पोल के मुताबिक एनडीए को 295 सीटें मिलने के आसार हैं। जबकि, सरकार बनाने के लिए मात्र 272 सीटों की जरूरत है। ऐसे में यह संभावना दिख रही है कि भाजपा अपने सहयोगियों की मदद से सरकार बना सकती है। यूपीए को 127 और अन्‍य के खाते में 121 सीटें दी गई हैं। यूपी में बीजेपी सांसदों की संख्‍या 46 पर सिमट जाने का अनुमान लगाया गया है। ओपिनियन पोल का आयोजन 1 अप्रैल से लेकर 6 अप्रैल तक देश के कुल 543 सीटों में से 305 पर किया गया था। 36,600 वोटरों की राय ली गई थी। इसमें 19,125 पुरुष और 17,475 महिलाएं थी।

सर्वे के मुताबिक, वर्तमान में भाजपा के सांसदों की संख्या 282 है, जो 32 कम होकर 42 कम होकर 240 पर पहुंच सकती है। यूं कहें तो अपने दम पर सरकार बनाने से भाजपा 32 कदम पीछे ही रह सकती है। एनडीए की कुल संभावित 295 सीटों में शामिल भाजपा 240, शिव सेना 15, एआईडीएमके 10, जदयू 13, अकाली दल 3, पीएमके 2 और लोजपा 3 सीटें जीत सकती है। वहीं, शेष सीटें अन्य पार्टियों के खाते में जा सकती है।

वहीं, कांग्रेस का प्रदर्शन पिछली बार के मुकाबले बेहतर हो सकता है। इसकी संख्या 2014 में 44 थी, जो इस बार बढ़कर 84 हो सकती है। यूपीए की कुल संभावित 127 सीटों में से 84 पर कांग्रेस, 16 पर डीएमके, 5 पर राजद, 5 पर टीडीपी और शेष पर अन्य पार्टियां जीत हासिल कर सकती है। अन्य में संभावित कुल 121 सीटों में से तृणमूल कांग्रेस 29, समाजवादी पार्टी 15, बसपा 13, वाईएसआर कांग्रेस 20, टीआरएस 14, बीजू जनता दल 13, लेफ्ट 6 और शेष पर अन्य पार्टियां व निर्दलीय जीत हासिल कर सकते हैं।

बता दें कि एनडीए में फिलहाल भाजपा, शिव सेना, अकाली दल, एआईएडीएमके, जनता दल यू, लोजपा, पीएमके सहित अन्य पार्टियां शामिल है। वहीं, यूपीए में कांग्रेस, डीएमके, टीडीपी, जेडीएस, राजद, झारखंड मुक्ति मोर्चा, एनसीपी, नेशनल कांफ्रेंस, आईयूएमएल सहित अन्य पार्टियां शामिल है। अन्य की बात करें तो इसमें समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, तृणमूल कांग्रेस, तेलंगाना राष्ट्र समिति, बीजू जनता दल, वाईएसआर कांग्रेस पार्टी, लेफ्ट, पीडीपी, एआईयूडीएफ, एआईएमआईएम, आईएनएलडी, आम आदमी पार्टी, जेवीएम (पी), तमिलनाडु का एममके और निर्दलीय शामिल हैं।

राज्यवार संभावित आंकड़ों की बात करें तो उत्तर प्रदेश में भाजपा 46, बसपा 13, सपा 15, कांग्रेस 4, रालोद 1 और अपना दल 1 सीट पर जीत हासिल कर सकती है। राजस्थान की कुल 25 सीटों में से 19 पर भाजपा और 6 पर कांग्रेस जीत हासिल कर सकती है। उत्तराखंड की 5 सीटों में से 4 पर भाजपा और 1 पर कांग्रेस जीत सकती है। पश्चिम बंगाल की कुल 42 सीटों में से 29 पर तृणमूल कांग्रेस, 12 पर भाजपा और 1 सीट पर कांग्रेस जीत सकती है। ओडिशा की 21 सीटों में से 13 पर बीजद, 7 पर भाजपा और 1 सीट पर कांग्रेस जीत हासिल कर सकती है। मध्य प्रदेश की 29 सीटों में से 23 पर भाजपा और 6 पर कांग्रेस जीत सकती है।

बात बिहार की करें तो राज्य की 40 सीटों में से 15 पर भाजपा, 13 पर जदयू, 5 पर राजद, 2 पर कांग्रेस, 3 पर लोजपा, 1 पर रालोसपा और 1 सीट पर वीआईपी पार्टी जीत दर्ज कर सकती है। छत्तीसगढ़ की 11 सीटों में से 5 पर भाजपा और 6 पर कांग्रेस जीत सकती है। पंजाब की 13 सीटों में से 10 पर कांग्रेस और 3 पर अकाली दल जीत हासिल कर सकती है। हरियाणा की 10 में से 9 सीटें भाजपा और 1 कांग्रेस के खाते में जा सकती है। झारखंड की 14 सीटों में से 9 पर भाजपा, 2 पर जेएमएम, 2 पर कांग्रेस और एक पर आजसू जीत दर्ज कर सकती है।

गुजरात की कुल 26 सीटों में से 24 पर भाजपा और 2 पर कांग्रेस जीत सकती है। हिमाचल प्रदेश की 4 सीटों में से 3 पर भाजपा और 1 पर कांग्रेस की जीत की संभावना है। महाराष्ट्र के 48 सीटों में से 21 पर भाजपा, 15 पर शिवसेना, 6 पर कांग्रेस और 6 पर एनसीपी जीत दर्ज कर सकती है। गोवा में एक सीट भाजपा और एक सीट कांग्रेस के खाते में जाती दिख रही है।

तमिलनाडु की कुल 39 सीटों में से 16 डीएमके, 10 एआईडीएमके, 4 कांग्रेस, 1 भाजपा, 2 पीएमके और 6 अन्य के खाते में जाती दिख रही है। आंध्र प्रदेश की कुल 25 में से 20 सीटें वाईएसआर कांग्रेस तथा 5 टीडीपी के खाते में जाती दिख रही है। तेलंगाना की कुल 17 सीटों में से 14 पर टीआरएस, 2 पर कांग्रेस तथा 1 सीट पर एआईएमआईएम की जीत की संभावना है। कर्नाटक की कुल 28 सीटों में से 16 पर भाजपा, 10 पर कांग्रेस और 2 सीट पर जेडीएस की जीत की संभावना है।

केरल की कुल 20 में से 16 सीटों पर यूडीएफ और 4 सीटों पर एलडीएफ की जीत की संभावना है। जम्मू-कश्मीर के कुल 6 सीटों में से 2 पर भाजपा, 3 पर नेशनल कांफ्रेंस और 1 सीट पर कांग्रेस की जीत की संभावना है। असमय की कुल 14 सीटों में से 6 पर भाजपा, 2 पर एआईयूडीएफ, 4 पर कांग्रेस और 2 सीटों पर अन्य की जीत हो सकती है। पूर्वोत्तर भारत के अन्य 11 सीटों में से 6 भाजपा, 1 कांग्रेस, 2 एनपीपी, 1 एनडीपीपी और 1 सीट एसडीएफ के खाते मं जाती दिख रही है। दिल्ली की सभी 7 सीटों पर भाजपा उम्मीदवारों के जीत की संभावना है। अन्य केंद्रशासित प्रदेशों की 6 सीटों में से 4 भाजपा और 2 कांग्रेस के खाते में जा सकती है।