बरगाड़ी कांड में बुरे फंसे अक्षय कुमार, एस.आई.टी. के सामने होना पड़ेगा पेश, देखें

120

Hits: 7

बरगाड़ी कांड को लेकर पूर्व मुख्य मंत्री प्रकाश सिंह बादल और शिअद प्रधान सुखबीर सिंह बादल के साथ-साथ बालीवुड के मशहूर अभिनेता अक्षय कुमार भी एस.आई.टी. टीम की राडार पर हैं। अक्षय कुमार बुधवार को एस.आई.टी. के समक्ष पेश होंगे।

सूत्रों मुताबिक पूछताछ के लिए जगह आज शाम तय होगी। उनसे उनके घर पर हुई 100 करोड़ की डील संबंधी पूछताछ होगी। वहीं गत दिनों अक्षय कुमार की पत्नी ट्विंकल के 2 साल पुराने एक ट्वीट ने आग में घी डालने का काम किया है। पंजाब में श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के बाद हुए बरगाड़ी कांड को लेकर सरकार द्वारा बनाई गई स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) फगवाड़ा पहुंची और इस मामले से संबंधित सभी अधिकारियों के साथ बैठक की।

एसआईटी के चेयरमैन एवं आईजी अरुणपाल सिंह ने बताया कि बहबलकलां में हुई बेअबदबी के बाद बरगाड़ी में हुई घटना के लिए जांच कमेटी फगवाड़ा आई है। मीटिंग में उनके साथ जिला कपूरथला के एसएसपी सतिंदर सिंह भी शामिल हुए। मीटिंग में उन्होंने बताया कि इस मामले के चलते ही पंजाब के विभिन्न शहरों के कई अधिकारियों को बुलाया गया है, बाकी की कारवाई जांच के बाद ही होगी। उन्होंने कहा कि गहनता से जांच के बाद ही कुछ बताया जा सकता है।

अक्षय का ट्वीट

अक्षय ने सोमवार को ट्विटर पर सफाई दी। कहा- ‘मैं कभी डेरा मुखी से मिला ही नहीं। मुझे इस मामले का सोशल मीडिया से पता चला, जो सरासर गलत है। मैं फिल्मों में पंजाबी कल्चर को प्रमोट करता रहा हूं। सिखिज्म को लेकर ‘मैंने सिंह इज किंग’ और ‘केसरिया बेस्ड आॅन बैटल आॅफ सारागड़ी’ फिल्में बनाई हैं। मैं सिख समुदाय का पूरा सम्मान करता हूं। पंजाबियों के लिए मेरे दिल में हमेशा सम्मान रहा है।’

सुखबीर बोले

एसआईटी जहां भी बुलाएगी पहुंचेंगे। जांच में सहयोग देंगे। दोषियों को सजा मिलनी ही चाहिए। रही बात अक्षय कुमार के घर डेरा मुखी से मिलने के आरोप की, तो इसके लिए मेरी जेड प्लस सुरक्षा के नियमों की जांच करवा लें। मैं जहां भी जाता हूं, सुरक्षा के लिहाज से रूट व यात्रा का पूरा रोस्टर तैयार होता है। उसी से ही पता चल जाएगा कि कभी अक्षय के घर गया या नहीं।-सुखबीर बादल

समन बादल के नाम और पता लिख दिया कैप्टन की कोठी का

एसअाईटी ने पूर्व सीएम बादल के नाम भेजे जा रहे समन पर पता कैप्टन की सरकारी कोठी का ही लिख दिया। हालांकि वक्त रहते ही इसे सुधार लिया गया। इसके बाद समन बादल के घर भेजे गए। बतौर सीएम बादल यहां रहते थे, अब यहां अमरिंदर सिंह रहते हैं।

उम्र 65 से ज्यादा है तो एसआईटी खुद जाती है पूछताछ करने

नियमों के अनुसार 65 साल से ज्यादा उम्र के व्यक्ति को धारा 160 के तहत समन जारी करने पर उसके घर जाकर पूछताछ करनी होती है। जबकि इस मामले में 90 पार बादल को अमृतसर बुलाया गया है।

इधर, सीएम बोले- बादलों को समन में सरकार का कोई रोल नहीं

समन जारी करने में पंजाब सरकार का कोई रोल नहीं है। एसआईटी पूरी तरह आजाद एजेंसी है। वह अपने स्तर पर ही पूरी कार्रवाई कर रही है। हर कार्रवाई तथ्यों के आधार पर की जा रही है। सरकार का इसमें कोई दखल नहीं है। दोषियों से किसी भी हाल में लिहाज नहीं किया जाएगा।-कैप्टन अमरिंदर सिंह, सीएम

Courtesy: Khabarbazi