हवाई यात्रियों की जेब एक बार फिर होगी भारी, यह शुल्क बढ़ाने की तैयारी में सरकार

59

Hits: 6

हवाईअड्डों पर सुरक्षा तैनाती की लागत को कवर करने के लिए हवाई यात्रियों से वसूली जा रही फीस में अब जल्द ही बढ़ोतरी हो सकती है। एयरपोर्ट ऑपरेटर्स ने सरकार से कहा है कि यात्री सुरक्षा शुल्क (पीएसएफ) के तौर पर यात्रियों से जितना पैसा वसूला जाता है वो काफी नहीं है, क्योंकि यह लागत से काफी कम है।

उन्होंने सरकार से इस शुल्क में बढ़ोतरी की मांग की है। फिलहाल प्रत्येक हवाई यात्री से यात्री सुरक्षा शुल्क (पीएसएफ) के तौर पर 130 रुपया वसूला जाता है। माना जा रहा है कि सुरक्षा शुल्क में 50 फीसदी की बढ़ोतरी हो सकती है।

भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया) के चेयरमैन गुरुप्रसाद महापात्रा ने कहा ‘यात्री सुरक्षा शुल्क की राशि से केवल हवाईअड्डों पर तैनात केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के कर्मियों और कुछ स्थानों पर तैनात राज्य पुलिस कर्मियों के वेतन का ही भुगतान हो पाता है। इस मद पर हमारा वार्षिक खर्च 900 करोड़ रुपये है और हमें हर साल 100 करोड़ रुपये की कमी का सामना करना पड़ रहा है। सभी एयरपोर्ट ऑपरेटरों ने उड्डयन मंत्रालय के समक्ष अपनी मांग रख दी है और यात्री सुरक्षा शुल्क बढ़ाने को लेकर बातचीत चल रही है’।

बता दें कि भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण अपने अन्य राजस्व से सीआईएसएफ कर्मियों को वेतन देता है, जबकि अधिकतर एयरपोर्ट खासकर भारत के सबसे व्यस्त हवाईअड्डों में से एक इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा ऐसा नहीं करता।

वहीं, दिल्ली, मुंबई, बंगलुरु और हैदराबाद के सार्वजनिक निजी भागीदारी वाले हवाईअड्डों ने अभी तक यह नहीं बताया है कि उनका वार्षिक सुरक्षा तैनाती खर्च कितना आता है और वह यात्रियों से कितना सुरक्षा शुल्क वसूलते हैं।

Courtesy: Amar Ujala