मंहगाई की मार: 4 साल के सर्वाधिक 5.77 फीसद पर पहुंचा थोक मंहगाई दर

42

Hits: 8

नई दिल्ली : देश में एक ओर जहां बढ़ती मंहगाई ने आम आदमी का हाल बेहाल कर दिया है। वहीं आने वाले दिनों में भी राहत की उम्मीद नहीं दिख रही है। सोमवार को सरकारी आंकड़ो के मुताबिक, थोक महंगाई दर जून में 5.77 फीसदी हो गया है, जोकि पिछले चार साल का उच्चतम स्तर है।

सरकार की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, प्राथमिक वस्तुओं की कीमतों में 2 प्रतिशत ईंधन और पावर बास्केट के मूल्यों में 3 प्रतिशत की बढ़त रिकॉर्ड की गई है। जून में ये महंगाई दर 4.93 फीसदी के अनुमान से कहीं अधिक 5.77 फीसद पहुंचकर पिछले चार सालों के अधिकतम मंहगाई दर पर पहुंच गई है।

मंहगाई का सबसे ज्यादा असर आम आदमी की जेब पर पड़ रहा है। जून 2018 में खाने-पीने की चीजों में 1.80 फीसदी की महंगाई रही, जबकि मई में ये दर 1.60 फीसदी थी। वहीं सब्जियां में यह मंहगाई बढ़कर 8.12 फीसदी हो गई। जून में प्‍याज की थोक महंगाई दर बढ़कर 18.25 फीसदी हो गई, जो मई में 13.20 फीसदी थी। जून माह में आलू की कीमतों में सबसे बड़ी उछाल देखने को मिली और आलू की थोक कीमतों 99.02 फीसदी की महंगाई दर बढ़ी, जो मई में 81.93 फीसदी थी। हालांकि फलों की महंगाई घटकर जून में 3.87 फीसदी पर आ गई।

आपको बता दें कि पिछले दो महीनों में 2.59 फीसदी थोक मंहगाई दर भढ़ी है। मई महीने में पेट्रोल-डीजल और सब्जियों के दाम बढ़ने के चलते थोक मूल्य आधारित मुद्रास्फीति बढ़कर 15 महीने के उच्चतम स्तर 4.43 प्रतिशत पर पहुंच गयी थी। वहीं अप्रैल में भी थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति 3.18 प्रतिशत रही थी।

Courtesy: Dailyhunt