350 सीसी से कम इंजन क्षमता वाली बाइक हुई सस्ती

217

Hits: 33

नई दिल्ली:  भारतीय ऑटो इंडस्ट्री के लिए जीएसटी फायदे का सौदा माना जा रहा है। खासतौर पर दोपहिया वाहन बाजार के लिए। टू-व्हीलर मार्केट को जीएसटी से काफी उम्मीदें हैं। बाइक्स व स्कूटर्स पर कुल टैक्स दरें रिवाइज की जा चुकी हैं और वे बाजार के पक्ष में ही गई हैं। टू-व्हीलर्स सेगमेंट पर जीएसटी को इंजन की क्षमता के हिसाब से बांटा गया है। 350 सीसी से कम के स्कूटर्स पर 28 फीसदी, जो कि पिछले 30 फीसदी से 2 फीसदी कम है। हालांकि, 350 सीसी से ज्यादा पर 31 प्रतिशत जीएसटी लागू होगा, जो पहले से 1 प्रतिशत ज्यादा है। कुछ निर्माताओं ने तो जीएसटी लागू होने के बाद नई कीमतें भी जारी कर दी हैं। इस बदलाव के बाद से टू व्हीलर्स के दाम कम होंगे, जिससे उद्योग की रफ्तार बढ़ेगी।

जीएसटी से दो पहिया मार्केट में होगी 10 फीसदी की वृद्धि

यमाहा मोटर के वरिष्ठ उपाध्यक्ष (सेल्स ऐंड मार्केटिंग) रॉय कुरियन ने बताया कि जीएसटी मार्केट में मांग को बढ़ाएगा व लागू हो जाने के बाद 10 प्रतिशत तक वृद्धि देगा। उन्होंने कहा कि इस साल ऑटो इंडस्ट्री कई बड़े सुधारों के दौर से गुजरी है। बीएस-4, नोटबंदी जैसे मसलों ने इंडस्ट्री पर तगड़ा असर दिखाया, अब जीएसटी से इंडस्ट्री किस दिशा में जाती है, यह देखना होगा। हीरो मोटोकॉर्प ने हाल में छूट की घोषणा की है, जो 400 रुपये से 1,800 रुपये तक अलग-अलग मॉडल्स पर लागू होती है। कंपनी ने एक बयान में कहा कि दरअसल फायदे एक राज्य से दूसरे राज्य तक अलग-अलग दर पर मिलेंगे। कुछ प्रीमियम मॉडल्स पर 4,000 रुपये तक की छूट बाजार में देखी जा सकती है।

350 सीसी से ऊपर की बाइकों की बढ़ेंगी कीमतें

कंपनी ने आगे कहा कि जिन राज्यों में जीएसटी से पहले ही कीमतें कम थीं, वहां उस अनुपात में लोगों को फायदा मिलेगा। 350 सीसी से ऊपर की बाइकों पर कीमतें बढ़ना तय है। माना जा रहा है कि 3 लाख के करीब कीमतों वाली बाइकों पर यदि कुछ बढ़ता भी है, तो ग्राहकों पर खास असर नहीं पड़ेगा। रॉयल एनफील्ड क्लासिक 350 जहां 1.34 लाख रुपये में मिल रही थी, अब उस पर 1,000 रुपये बढ़ चुके हैं। दूसरी तरफ ट्रंप स्ट्रीट ट्विन 7 लाख कीमत वाली बाइक थी, जिस पर 15,000 रुपये बढ़े। एक्सपर्ट्स का मानना है कि इस वृद्धि का ग्राहकों पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा।